सामाजिक विज्ञान कक्षा 10 इतिहास भूमंडलीकृत विश्व का बनना Social science class 10 in Hindi


भूमंडलीकृत विश्व का बनना 

इतिहास कक्षा 10

अध्याय – 4 

एक अंक वाले प्रश्न :

1. मित्र राष्ट्रों के नाम बताइए ?
उत्तर : ब्रिटेन , फ़्रांस और रूस |

2. दक्षिणी अमेरिका में एल डोराडो क्या है ?
उत्तर : किंवदन्तियों की बदौलत सोने का शहर |

3. किस देश के पास अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक में वीटो का प्रभावशाली अधिकार है ?
उत्तर : संयुक्त राज्य अमेरिका |

4. लगभग 500 साल पहले किस फसल के बारे में हमारे पूर्वजो को ज्ञान नहीं था ?
उत्तर : 500 साल पहले आलू  की फसल हमारे पूर्वजो का ज्ञान नहीं था |

5. कौन से दो आविष्कारों ने 19 वीं सदी के विश्व परिवर्तन किया ?
उत्तर : (1) भाप इंजन (2) रेलवे

6. 1928 से 1934 के बीच भारत में गेहूँ की कीमत 50 प्रतिशत तक गिर गई ?
उत्तर : महामंदी के कारण

7. अमेरिका महाद्वीप की खोज किसने की ?
उत्तर : क्रिस्टोफर कोलंबस |

8. उस यूरोपीय देश का नाम लिखो , जिसने अमेरिका पर विजय प्राप्त की ?
उत्तर : स्पेन ने अमेरिका पर विजय प्राप्त की |

9. भूमंडलीकृत विश्व के बनने में मदद देने वाले कोई दो कारक बताइए |
उत्तर
(1) व्यापार
काम की तलाश में एक जगह से दूसरी जगह जाते लोग
(2) पूँजी

10. अमेरिका जाने वाले नये समुंद्री रास्तों की खोज के बाद विश्व में क्या बदलाव हुए ? तीन उदाहरण देकर स्पष्ट करें |
उत्तर :
(1) आलू का इस्तेमाल शुरू करने पर यूरोप के गरीबों की जिंदगी में बदलाव आया | उनका    भोजन बेहतर हो गया और औसत उम्र बढने लगी |

(2) गुलामों का व्यापार शुरू हो गया |
यूरोप में धार्मिक टकराव होते रहते थे इसलिए हजारों लोग यूरोप से भागकर अमेरिका चले गए |

11. 19 वीं सदी में हजारों लोगों द्वारा लोगों यूरोप से भागकर अमेरिका जाने के क्या कारण थे ?
उत्तर :
(1) कॉर्न – ला को समाप्त करने के बाद कम कीमतों में सामान का आयात |
(2) भयानक बीमारियों का फैलना
(3) धार्मिक टकराव |

12. सूती वस्त्र उधोगों के औधोगिकरण का ब्रिटेन में क्या प्रभाव पड़ा ?
उत्तर : 
(1) आयात शुल्क के कारण ब्रिटेन मई भारतीय कपास के आयात में तेजी से कमी आई |
(2) भारतीय बस्त्रो को अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में भरी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ा |
(3) बाद में निर्माण किए गए सूती उत्पादों के निर्यात में कमी आने के पश्चात् ब्रिटिश निर्माताओ ने बहुत ही सस्ती कीमत पर भारत से कपास का आयात आरंभ कर दिया |

13. व्यापार अधिशेष से क्या अभिप्राय है ? भारत के साथ ब्रिटेन व्यापार अधिशेष की अवस्था में क्यों रहा ?
उत्तर :
(1) जब निर्यात मूल्य आयात मूल्य से अधिक होता है तो इसे व्यापार अधिशेष कहा जाता है|
(2) 19 वीं शताब्दी में बाजारों में ब्रिटेन के बने माल की अधिकता हो गई थी | भारत से  ब्रिटेन और शेष विश्व को भेजे जाने वाले खाद्दान्न व कच्चे मालों के निर्यात में इजाफा हुआ|
(3) लेकिन जो माल भारत भेजा जाता था उसकी कीमत काफी अधिक होती थी और जो भारत से इंग्लैण्ड भेजा जाता था उसकी कीमत काफी कम होती थी इसलिए ब्रिटेन हमेशा व्यापार अधिशेष की अवस्था में रहता था |

14. ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था पर प्रथम विश्व युद्ध के क्या प्रभाव पड़े ?
उत्तर :
(1) युद्ध के बाद भारतीय बाजार में अपनी वर्चस्व वाली स्थिति को प्राप्त करना ब्रिटेन के लिए कठिन हो गया |
(2) ब्रिटेन को विश्व स्तर पर अब जापान से भी मुकाबला करना था |
(3) अमेरिका से लिए गए कर्जे की वजह से ब्रिटेन युद्ध के बाद भारी विदेशी कर्जे में डूब गया |
(4) युद्ध के कारण आया आर्थिक उछाल जब शांत होने लगा तो उत्पादन गिरने लगा और बेरोजगारी बढने लगी |
(5) इसी समय सरकार ने बारी भरकम शांतिकालीन करों के सहारे उनकी भरपाई करने की कोशिश की | इन प्रयासों से रोजगार भारी मात्रा में समाप्त हो गए |

15. आर्थिक महामंदी के कारण बताइये ?
उत्तर :
(1) महामंदी की शुरुआत 1929 से हुई और यह संकट 30 के दशक के मध्य तक बना रहा | इस दौरान विश्व के ज्यादातर होस्सो में उत्पादन , रोजगार , आय और व्यापार में बहुत बड़ी गिरावट दर्ज की गई |
(2) युध्दोतर अर्थव्यवस्था बहुत कमजोर हो गई थी | कीमतें गिरीं तो किसानों की आय घटने लगी और आमदनी बढ़ाने के लिए किसान अधिक मात्रा में उत्पादन करने लगे |
(3) बहुत सारे देशों ने अमेरिका से कर्ज लिया |
(4) अमेरिकी उधोगपतियों ने मंदी की आशंका को देखते हुए यूरोपीय देशों को कर्ज देना बंद कर दिया |
(5) हजारों बैंक दिवालिया हो गये |

16. भारतीय अर्थव्यवस्था पर महामंदी का क्या प्रभाव पड़ा ?
उत्तर : 
(1) 1928 से 1934 के बीच का आयात – निर्यात घट कर आधा रह गया |
(2) अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कीमतें गिरने से भारत में गेहूँ की कीमत 50 प्रतिशत तक गिर   गई |
(3) किसानों और कश्कारों को ज्यादा नुकसान हुआ |
(4) महामंदी शहरी जनता एवं अर्थव्यवस्था के लिए भी हानिकारक |
(5) 1931 में मंदी चरम सीमा पर थी जिसके कारण ग्रामीण भारत असंतोष व उथल – पुथल के दौर से गुजर रहा था |
17. 19 वीं सदी की अनुबंध व्यवस्था को नयी दास व्यवस्था के रूप में वर्णित किया है | उपयुक्त उदाहरण देकर स्पष्ट कीजिए ?
उत्तर :
(1) एजेंट मजदूरों को फुसलाने के लिए झूठी जानकारियाँ देते थे |
(2)  एजेंटों द्वारा मजदूरों का अपहरण भी कर लिया जाता था |

(3) नयी जगह की जीवन एवं कार्य स्थितियाँ कठोर थी |
(4) वेतन बहुत कम था | काम ठीक से न कर पाने के कारण वेतन काट लिया जाता था |
(5) मजदूरों के पास कानूनी अधिकार न के बराबर थे |

18. वैश्विकरण का क्या अर्थ है ? अंतरास्ट्रीय आथ्रिक विनिमय में तीन प्रकार के प्रवाहों का वर्णन कीजिए ?
उत्तर :
(1) किसी देश की आर्थव्यवस्था विश्व की अन्य अर्थव्यवस्थाओं के साथ जुडी होती है |
(2) पहला प्रवाह व्यापार का होता है जो मुख्यतः कपड़ों एवं गेहूँ के व्यापार तक सीमित था
(3) दुसरा प्रवाह श्रम का है जिसमें लोग रोजगार की तलाश में एक जगह से दूसरी जगह जाते है |
(4) तीसरा प्रवाह पूँजी का होता है जिसे अल्प या दीर्घ अवधि के लिए दूर – दराज के इलाकों में निवेश कर दिया जाता है |

19. ब्रिटेन – वुड्स समझौते का क्या अर्थ है ?
उत्तर :
(1) 1944 में अमेरिका स्थित न्यू हेम्पशायर केज ब्रिटेन वुड्स नामक स्थान पर  संयुक्त राष्ट मुद्रिका  एवं वित्तीय सम्मेलन में सहमति बनी थी |
(2) अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक की स्थापना हुई |
(3) ब्रिटेन वुड्स व्यवस्था निश्चित विनिमय दरों पर आधारित होती थी |
20. अफीम युद्ध का क्या अर्थ है | चीन पर अफीम युद्ध के प्रभावों का वर्णन कीजिए ?
उत्तर :
(1) अफीम युद्ध का अर्थ – जब इंग्लैड ने चीनियों पर अफीम आयात करने का दबाव डाला टो दोनों देशों के बीच संघर्ष उत्पन्न हो गया जिसको अफीम युद्ध कहा जाता है |
(2) चीनियों का शारीरिक व नैतिक पतन हुआ |
चीन को हर्जाने के रूप में 5 बंदरगाह ब्रिटिश व्यापारीयों के लिए खोलने पड़े |
(3) बिना किसी अवधि के हांगकांग को ब्रिटेन को सौंप दिया गया |

भूमंडलीकृत विश्व का बनना पीडीऍफ़ कॉपी 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!