भारतीय राजनीति : नए बदलाव Bharatiy Rajniti kaksha 12 Political Science Class 12 in Hindi

Contents hide
1 भारतीय राजनीति : नए बदलाव 90 का दशक की 5 महत्वपूर्ण घटनाएँ 90 के दशक की सबसे महत्वपूर्ण घटना कांग्रेस के हार थी कांग्रेस को मात्र 197 सीट ही मिली l इस दशक की अन्य महत्वपूर्ण घटना कांग्रेस प्रणाली का अंत था l कांग्रेस ने 1989 के बाद कभी भी पूर्ण बहुमत की सरकार नहीं बनायी l दूसरी घटना भारतीय राजनीति में मंडल मुद्दे का आना था जिसमे अन्य पिछड़ा वर्ग को केंद्र सरकार की नौकरियों में आरक्षण दिया गया था l तीसरी घटना भारत ने नयी आर्थिक नीति आपना ली थी l जिसके अनुसार उदारीकरण, निजीकरण और वैश्वीकरण किया गया l चौथी घटना 1992 में उत्तर प्रदेश का विवादित बाबरी मस्जिद विध्वंस था पांचवीं महत्वपूर्ण घटना इंदिरा गाँधी(1984) और राजीव गाँधी(1991) की हत्या थी l गठबंधन का युग राष्ट्रिय मोर्चा राष्ट्रीय मोर्चा जनता दल और अन्य क्षेत्रीय पार्टियों को मिलाकर बना था l जनता दल का इस चुनाव में 143 लोकसभा सीटे प्राप्त हुई थी l इस मोर्चे को भाजपा और वाम मोर्चे ने समर्थन दिया था l भाजपा और वाम मोर्चे ने सरकार में शिरकत नहीं की l संयुक्त मोर्चा संयुक्त मोर्चा की सरकार में नेशनल फ्रंट, वाम मोर्चा, तमिल कांग्रेस और असम गण परिषद् के साथ साथ कई और दल शामिल थे l सभी दलों को मिलाकर 192 सांसद थे l इस मोर्चे को कांग्रेस जिसके पास 140 सीटे थे ने समर्थन दिया l संयुक्त मोर्चा की सरकार को इसबार वाम मोर्चा ने भी समर्थन दिया और भाजपा को सत्ता से बहार रखा l संयुक्त मोर्चे की सरकार अधिक दिनों तक नहीं चली और अप्रैल 1997 में सरकार गिर गयी l एकबार फिर संयुक्त मोर्चा की सरकार कांग्रेस के समर्थन से बनी और मार्च 1998 में फिर गिर गयी l इसके बाद भाजपा की सरकार बनी जो अल्पमत होने के कारण मात्र 13 दिनों में गिर गयी l राजग सरकार 13 दिन की अल्पमत की सरकार गिरने के बाद भाजपा ने भी गठबंधन बनाया जिसे राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन का नाम दिया गया l राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ( NDA ) को सन 1999 में पूर्ण बहुमत मिला और अटल बिहारी वाजपेयी पहले ऐसे गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री बने जिन्होंने केंद्र की सरकार पूरे 5 साल चलायी l इससे पहले NDA ने 13 महीने की सरकार अप्रैल 1997 से मार्च 1998 तक चलायी थी जिससे गठबंधन की समझ बढ़ी l NDA की सरकार ने अपना कार्यकाल पूरा किया l संप्रग सरकार भाजपा की गठबंधन सरकार के पांच साल पूरे होने पर कांग्रेस ने राजग गठबंधन को मात देने के लिए जो गठबंधन बनाया उसे संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन कहा जाता है l संप्रग गठबंधन को 218 लोकसभा सीटें प्राप्त हुई l संप्रग गठबंधन को समाजवादी पार्टी(36 सीटें) बहुजन समाज पार्टी (19 सीटें ) और वाम मोर्चा (59 सीटें) के साथ साथ अन्य दलों का भी समर्थन प्राप्त था l संप्रग सरकार का गठन 335 सांसदों के साथ हुआ l इस सरकार ने भी अपना कार्यकाल पूरा किया l मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री बने और 2009 के चुनाव में गठबंधन को पूर्ण बहुमत प्राप्त हुआ और इस बार भी मनमोहन सिंह देश के प्रधानमंत्री बने l अन्य पिछड़ा वर्ग OBC ( अदर बैकवर्ड क्लासेस ) अर्थात् अन्य पिछड़ा वर्ग जिसकी पहचान अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति से अलग एक ऐसे समूह के रूप में की गयी है जो सामाजिक, राजनितिक और आर्थिक रूप से पिछड़े हुए है l इन्हें पिछड़ा वर्ग भी कहा जाता है l OBC का मुद्दा सन 1977 से राजनीति में आया जब जनता दल की सरकार बनी l पिछड़े वर्ग में अपनी पहुँच बनाने के लिए जनता सरकार ने मंडल आयोग का गठन किया था l मंडल आयोग 1978 में केंद्र की जनता दल की सरकार ने एक आयोग का गठन किया इस आयोग का नाम इसके अध्यक्ष बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल के नाम पर मंडल आयोग पड़ा l इस आयोग का मुख्य कार्य सामाजिक और शैक्षिक रूप से पिछड़े समूहों की पहचान करना था l ये समूह अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति से अलग थे और इनकी स्थिति भी कुछ ऎसी ही थी l इसके अलावा आयोग का कार्य इन समूहों की पहचान करने के तरीके बताना और इनके पिछड़ेपन को दूर करने के उपाय सुझाना था l आयोग ने अपनी रिपोर्ट में पाया की बहुत सारे ऐसे समूह है जिनका शैक्षणिक संस्थानों और सरकारी नौकरियों में प्रतिनिधित्व बहुत कम है l इन समूहों को उन्होंने अन्य पिछड़ा वर्ग कहा l 1990 में राष्ट्रीय मोर्चा की सरकार ने मंडल आयोग की सिफारिशों में से एक केंद्र के सरकारी की नौकरियों में ओबीसी को 27% आरक्षण का प्रावधान कर दिया l बामसेफ ( बैकवर्ड एंड माइनॉरिटी क्लासेज एम्प्लायज फेडरेशन ) बामसेफ का गठन सन 1978 में हुआ था l यह संगठन मुख्य रूप से अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजातियों के लोगो का संगठन था जो सरकारी नौकरियों में थे l इस संगठन ने बहुजन ( अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग ) की तरफदारी की l बामसेफ आगे चलकर दलित शोषित समाज संघर्ष समिति बना l आगे चलकर यही समिति बहुजन समाज पार्टी बनी l यह पार्टी मुख्य रूप से दलितों के अधकारों और शोषण के खिलाफ आवाज उठाती है l प्रारंभ में बसपा एक छोटी पार्टी थी जिसका आधार हरियाणा और पंजाब में था लेकिन आगे चलकर पार्टी का उत्तर प्रदेश में जवर्दस्त जनाधार बना l बसपा के मुख्य नेता कांशीराम थे जिन्होंने पार्टी को फर्श से अर्श तक पहुचाया l उनके बाद अब सुश्री मायावती जी इस पार्टी की अध्यक्ष है l भाजपा ( भारतीय जनता पार्टी ) 1977 में जनसंघ ने अन्य पार्टियों के सात मिलकर जनता पार्टी का गठन किया और आम चुनाव में सफलता प्राप्त किया l लेकिन जनता दल सन 1980 में टूट का शिकार हो गयी l इस पार्टी में से कई पार्टियाँ बनी जिनमे से एक भाजपा (भारतीय जनता पार्टी ) थी l इसके पहले अध्यक्ष अटल बिहारी वाजपेयी को बनाया गया l इस पार्टी के अधिकतर सदस्य भारतीय जनसंघ के सदस्य ही थे जिससे जनता दल बनी थी l पार्टी ने हिंदुत्व को अपनी विचारधारा बनाई और हिन्दू राष्ट्र बनाने पर बल दिया l शुरुआत में इस पार्टी की विचारधारा को खास जगह नहीं मिली और इसके पहले लोकसभा चुनाव 1984 में मात्र 2 सीट ही मिली l लेकिन धीरे धीरे भाजपा का आधार बढ़ता चला गया और सन 1996 के चुनाव में यह सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी l भाजपा ने सन 1996 में 13 दिन की सरकार बनायी जो अल्पमत की सरकार थी l लेकिन भाजपा ने गठबंधन बनाया और गठबंधन के बल पर फिर से एक बार सत्ता में आये इस बार1998 में 12 महीने और फिर 1999 से 2004 तक सत्ता में रही l भाजपा ने सन 2014 में पूर्ण बहुमत के साथ गठबंधन राजग की सरकार बनाई l इस चुनाव में भाजपा को 282 सीट मिली थी l शाहबानो मामला 62 वर्षीय मुस्लिम महिला ने तलाक होने पर अपने पति से गुजरा भत्ता लेने के लिए उच्चतम न्यायलय में अपील की l अपील में महिला के पक्ष में फैसला आया l जिसे मुस्लिम रुढ़िवादी मुस्लिम समुदाय ने इसे अपने निजी कानून में हस्तक्षेप माना l 1985 के शाहबानो मामले में केंद्र सरकार के द्वारा मुस्लिम महिला अधिकार बिल (तलाक से जुड़े अधिकार) पास किया गया l जिससे उच्चतम न्यायलय के फैसले को पलट दिया l भाजपा ने इसे अल्पसंख्यक समुदाय को अनावश्यक दी जाने वाली रियायत कहा और इसका तीखा विरोध किया l अयोध्या विवाद अयोध्या में राम मंदिर को तोड़कर मीर बाकी जो की बाबर का सिपहसलार था ने बाबरी मस्जिद बनवाई थी l 1940 से मामला कोर्ट में चला गया और तब से मस्जिद में ताला लगा दिया गया था l क्योकि हिन्दू इस स्थान को पवित्र मानते थे इसलिए सन 1986 में फ़ैजाबाद की एक अदालत ने ताला खोलने का आदेश दिया उन्हें पूजा करने की अनुमति दे दी गयी थी l जैसे ही बाबरी मस्जिद का ताला खुला वैसे ही हिन्दू और मुस्लिम अपने अपने समुदाय को लामबंद करने लगे l 1992 में राम भक्त विवादित स्थान पर मंदिर बनवाने की मांग करने लगे l इसके लिए देश भर से कार सेवक वहा श्रम दान करने आये l दिसंबर 1992 में स्थिति भयावह हो गयी और कारसेवकों ने मस्जिद को तोडना शुरू कर दिया l इस घटना को अयोध्या विध्वंस की संज्ञा दी गयी l इससे देश में सांप्रदायिक तनाव बढ़ गया l और पूरे देश में कई जगह छित पूट हिन्दू मुस्लिम दंगे हुए l बाबरी मस्जिद विध्वंश के परिणाम जनवरी 1993 में मुंबई में हिन्दू और मुस्लिमों के बीच दंगा भड़क उठा l जो दो हफ्तों तक चले l केंद्र सरकार ने भाजपा की उत्तर प्रदेश राज्य सरकार को बर्खास्त कर दिया l जिन राज्यों में भाजपा की सरकार थी उन सभी राज्यों में राज्य सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया l गुजरात दंगा गुजरात के गोधरा नामक स्टेशन पर 27 फरवरी 2002 को अयोध्या से लौट रहे कार सेवकों की बोगी S-6 में मुस्लिम समुदाय की भीड़ ने आग लगा दी जिसमे 59 कारसेवकों की मृत्यु हो गयी l इससे गुजरात में सांप्रदायिक दंगे भड़क उठे l पूरे गुजरात में बहुत बड़े स्तर पर दंगे हुए l लगभग एक महीने तक दंगे चलते रहे l दंगो में लगभग 1200 लोगो की मौत हुए l हजारों लोग बेघर हो गए l


भारतीय राजनीति : नए बदलाव 
90 का दशक की 5 महत्वपूर्ण घटनाएँ 
  1. 90 के दशक की सबसे महत्वपूर्ण घटना कांग्रेस के हार थी कांग्रेस को मात्र 197 सीट ही मिली l इस दशक की अन्य महत्वपूर्ण घटना कांग्रेस प्रणाली का अंत था l कांग्रेस ने 1989 के बाद कभी भी पूर्ण बहुमत की सरकार नहीं बनायी l 
  2. दूसरी घटना भारतीय राजनीति में मंडल मुद्दे का आना था जिसमे अन्य पिछड़ा वर्ग को केंद्र सरकार की नौकरियों में आरक्षण दिया गया था l 
  3. तीसरी घटना भारत ने नयी आर्थिक नीति आपना ली थी l जिसके अनुसार उदारीकरण, निजीकरण और वैश्वीकरण किया गया l 
  4. चौथी घटना 1992 में उत्तर प्रदेश का विवादित बाबरी मस्जिद विध्वंस था 
  5. पांचवीं महत्वपूर्ण घटना इंदिरा गाँधी(1984) और राजीव गाँधी(1991) की हत्या थी l 
गठबंधन का युग 

राष्ट्रिय मोर्चा 
  1. राष्ट्रीय मोर्चा जनता दल और अन्य क्षेत्रीय पार्टियों को मिलाकर बना था l जनता दल का इस चुनाव में 143 लोकसभा सीटे प्राप्त हुई थी l 
  2. इस मोर्चे को भाजपा और वाम मोर्चे ने समर्थन दिया था l 
  3. भाजपा और वाम मोर्चे ने सरकार में शिरकत नहीं की l 
संयुक्त मोर्चा 
  1. संयुक्त मोर्चा की सरकार में नेशनल फ्रंट, वाम मोर्चा, तमिल कांग्रेस और असम गण परिषद् के साथ साथ कई और दल शामिल थे l 
  2. सभी दलों को मिलाकर 192 सांसद थे l इस मोर्चे को कांग्रेस जिसके पास 140 सीटे थे ने समर्थन दिया l 
  3. संयुक्त मोर्चा की सरकार को इसबार वाम मोर्चा ने भी समर्थन दिया और भाजपा को सत्ता से बहार रखा l 
  4. संयुक्त मोर्चे की सरकार अधिक दिनों तक नहीं चली और अप्रैल 1997 में सरकार गिर गयी l  
  5. एकबार फिर संयुक्त मोर्चा की सरकार कांग्रेस के समर्थन से बनी और मार्च 1998 में फिर गिर गयी l इसके बाद भाजपा की सरकार बनी जो अल्पमत होने के कारण मात्र 13 दिनों में गिर गयी l 

राजग सरकार 

  1. 13 दिन की अल्पमत की सरकार गिरने के बाद भाजपा ने भी गठबंधन बनाया जिसे राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन का नाम दिया गया l 
  2. राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ( NDA ) को सन 1999 में पूर्ण बहुमत मिला और अटल बिहारी वाजपेयी पहले ऐसे गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री बने जिन्होंने केंद्र की सरकार पूरे 5 साल चलायी l
  3. इससे पहले NDA ने 13 महीने की सरकार अप्रैल 1997 से मार्च 1998 तक चलायी थी जिससे गठबंधन की समझ बढ़ी l
  4. NDA की सरकार ने अपना कार्यकाल पूरा किया l 

संप्रग सरकार 

  1. भाजपा की गठबंधन सरकार के पांच साल पूरे होने पर कांग्रेस ने राजग गठबंधन को मात देने के लिए जो गठबंधन बनाया उसे संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन कहा जाता है l 
  2. संप्रग गठबंधन को 218 लोकसभा सीटें प्राप्त हुई l संप्रग गठबंधन को समाजवादी पार्टी(36 सीटें) बहुजन समाज पार्टी (19 सीटें ) और वाम मोर्चा (59 सीटें) के साथ साथ अन्य दलों का भी समर्थन प्राप्त था l 
  3. संप्रग सरकार का गठन 335 सांसदों के साथ हुआ l इस सरकार ने भी अपना कार्यकाल पूरा किया l 
  4. मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री बने और 2009 के चुनाव में गठबंधन को पूर्ण बहुमत प्राप्त हुआ और इस बार भी मनमोहन सिंह देश के प्रधानमंत्री बने l 

अन्य पिछड़ा वर्ग 

  1. OBC ( अदर बैकवर्ड क्लासेस ) अर्थात् अन्य पिछड़ा वर्ग जिसकी पहचान अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति से अलग एक ऐसे समूह के रूप में की गयी है जो सामाजिक, राजनितिक और आर्थिक रूप से पिछड़े हुए है l 
  2. इन्हें पिछड़ा वर्ग भी कहा जाता है l OBC का मुद्दा सन 1977 से राजनीति में आया जब जनता दल की सरकार बनी l
  3. पिछड़े वर्ग में अपनी पहुँच बनाने के लिए जनता सरकार ने मंडल आयोग का गठन किया था l 

मंडल आयोग 

  1. 1978 में केंद्र की जनता दल की सरकार ने एक आयोग का गठन किया इस आयोग का नाम इसके अध्यक्ष बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल के नाम पर मंडल आयोग पड़ा l 
  2. इस आयोग का मुख्य कार्य सामाजिक और शैक्षिक रूप से पिछड़े समूहों की पहचान करना था l 
  3. ये समूह अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति से अलग थे और इनकी स्थिति भी कुछ ऎसी ही थी l 
  4. इसके अलावा आयोग का कार्य इन समूहों की पहचान करने के तरीके बताना और इनके पिछड़ेपन को दूर करने के उपाय सुझाना था l 
  5. आयोग ने अपनी रिपोर्ट में पाया की बहुत सारे ऐसे समूह है जिनका शैक्षणिक संस्थानों और सरकारी नौकरियों में प्रतिनिधित्व बहुत कम है l इन समूहों को उन्होंने अन्य पिछड़ा वर्ग कहा l 
  6. 1990 में राष्ट्रीय मोर्चा की सरकार ने मंडल आयोग की सिफारिशों में से एक केंद्र के सरकारी की नौकरियों में ओबीसी  को 27% आरक्षण का प्रावधान कर दिया l  

बामसेफ ( बैकवर्ड एंड माइनॉरिटी क्लासेज एम्प्लायज फेडरेशन )

  1. बामसेफ का गठन सन 1978 में हुआ था l यह संगठन मुख्य रूप से अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजातियों के लोगो का संगठन था जो सरकारी नौकरियों में थे l 
  2. इस संगठन ने बहुजन ( अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग  ) की तरफदारी की l 
  3. बामसेफ आगे चलकर दलित शोषित समाज संघर्ष समिति बना l 
  4. आगे चलकर यही समिति बहुजन समाज पार्टी बनी l यह पार्टी मुख्य रूप से दलितों के अधकारों और शोषण के खिलाफ आवाज उठाती है l 
  5. प्रारंभ में बसपा एक छोटी पार्टी थी जिसका आधार हरियाणा और पंजाब में था लेकिन आगे चलकर पार्टी का उत्तर प्रदेश में जवर्दस्त जनाधार बना l 
  6. बसपा के मुख्य नेता कांशीराम थे जिन्होंने पार्टी को फर्श से अर्श तक पहुचाया l उनके बाद अब सुश्री मायावती जी इस पार्टी की अध्यक्ष है l 

भाजपा ( भारतीय जनता पार्टी )

  1. 1977  में जनसंघ ने अन्य पार्टियों के सात मिलकर जनता पार्टी का गठन किया और आम चुनाव में सफलता प्राप्त किया l 
  2. लेकिन जनता दल सन 1980 में टूट का शिकार हो गयी l इस पार्टी में से कई पार्टियाँ बनी जिनमे से एक भाजपा (भारतीय जनता पार्टी ) थी  l 
  3. इसके पहले अध्यक्ष अटल बिहारी वाजपेयी को बनाया गया l इस पार्टी के अधिकतर सदस्य भारतीय जनसंघ के सदस्य ही थे जिससे जनता दल बनी थी l 
  4. पार्टी ने हिंदुत्व को अपनी विचारधारा बनाई और हिन्दू राष्ट्र बनाने पर बल दिया l 
  5. शुरुआत में इस पार्टी की विचारधारा को खास जगह नहीं मिली और इसके पहले लोकसभा चुनाव 1984 में मात्र 2 सीट ही मिली l 
  6. लेकिन धीरे धीरे भाजपा का आधार बढ़ता चला गया और सन 1996 के चुनाव में यह सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी l भाजपा ने सन 1996 में 13 दिन की सरकार बनायी जो अल्पमत की सरकार थी l 
  7. लेकिन भाजपा ने गठबंधन बनाया और गठबंधन के बल पर फिर से एक बार सत्ता में आये इस बार1998 में 12 महीने और फिर 1999 से 2004 तक सत्ता में रही l 
  8. भाजपा ने सन 2014 में पूर्ण बहुमत के साथ गठबंधन राजग की सरकार बनाई l इस चुनाव में भाजपा को 282 सीट मिली थी l 
शाहबानो मामला
  1. 62 वर्षीय मुस्लिम महिला ने तलाक होने पर अपने पति से गुजरा भत्ता लेने के लिए उच्चतम न्यायलय में अपील की l अपील में महिला के पक्ष में फैसला आया l जिसे मुस्लिम रुढ़िवादी मुस्लिम समुदाय ने इसे अपने निजी कानून में हस्तक्षेप माना l 
  2. 1985 के शाहबानो मामले में केंद्र सरकार के द्वारा मुस्लिम महिला अधिकार बिल (तलाक से जुड़े अधिकार) पास किया गया l 
  3. जिससे उच्चतम न्यायलय के फैसले को पलट दिया l भाजपा ने इसे अल्पसंख्यक समुदाय को अनावश्यक दी जाने वाली रियायत कहा और इसका तीखा विरोध किया l 
अयोध्या विवाद 
  1. अयोध्या में राम मंदिर को तोड़कर मीर बाकी जो की बाबर का सिपहसलार था ने बाबरी मस्जिद बनवाई थी l 
  2. 1940 से मामला कोर्ट में चला गया और तब से मस्जिद में ताला लगा दिया गया था l 
  3. क्योकि हिन्दू इस स्थान को पवित्र मानते थे इसलिए सन 1986 में फ़ैजाबाद की एक अदालत ने ताला खोलने का आदेश दिया उन्हें पूजा करने की अनुमति दे दी गयी थी l 
  4. जैसे ही बाबरी मस्जिद का ताला खुला वैसे ही हिन्दू और मुस्लिम अपने अपने समुदाय को लामबंद करने लगे l
  5. 1992 में राम भक्त विवादित स्थान पर मंदिर बनवाने की मांग करने लगे l इसके लिए देश भर से कार सेवक वहा श्रम दान करने आये l 
  6. दिसंबर 1992 में  स्थिति भयावह हो गयी और कारसेवकों ने मस्जिद को तोडना शुरू कर दिया l इस घटना को अयोध्या विध्वंस की संज्ञा दी गयी l 
  7. इससे देश में सांप्रदायिक तनाव बढ़ गया l और पूरे देश में कई जगह छित पूट हिन्दू मुस्लिम दंगे हुए l 

बाबरी मस्जिद विध्वंश के परिणाम 

  1. जनवरी 1993 में मुंबई में हिन्दू और मुस्लिमों के बीच दंगा भड़क उठा l जो दो हफ्तों तक चले l 
  2. केंद्र सरकार ने भाजपा की उत्तर प्रदेश राज्य सरकार को बर्खास्त कर दिया l 
  3. जिन राज्यों में भाजपा की सरकार थी उन सभी राज्यों में राज्य सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया l 

गुजरात दंगा 

  1. गुजरात के गोधरा नामक स्टेशन पर 27 फरवरी 2002 को अयोध्या से लौट रहे कार सेवकों की बोगी S-6 में मुस्लिम समुदाय की भीड़ ने आग लगा दी जिसमे 59 कारसेवकों की मृत्यु हो गयी l 
  2. इससे गुजरात में सांप्रदायिक दंगे भड़क उठे l पूरे गुजरात में बहुत बड़े स्तर पर दंगे हुए l लगभग एक महीने तक दंगे चलते रहे l 
  3. दंगो में लगभग 1200 लोगो की मौत हुए l हजारों लोग बेघर हो गए l 









Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!