एथेनॉल ईंधन स्वच्छ ईंधन

एथेनॉल ईंधन स्वच्छ ईंधन

ऑटोमोबाइल उद्योग एथेनॉल ईंधन (स्वच्छ ईंधन) का उपयोग फ्लेक्सी फ्यूल के रूप में करने जा रहा है। तीसरा सबसे बड़ा ऑटोमोबाइल उद्योग जीवाश्म ईंधन पर अपनी निर्भरता कम कर रहा है। पारंपरिक ईंधन भारतीय अर्थव्यवस्था पर एक बड़ा भार है। पेट्रोल और डीजल की खरीद देश की अर्थव्यवस्था पर भारी बोझ है। भारत सरकार ने 2025 तक इथेनॉल को 20% तक मिलाने का लक्ष्य रखा है। केंद्र सरकार कच्चे तेल पर हर साल 65 बिलियन डॉलर खर्च करती है। पेट्रोलियम की 80 फीसदी जरूरत आईओसी और दूसरे देशों से आती है

कैसे बनता है एथेनॉल ईंधन एक स्वच्छ ईंधन

इथेनॉल सम्मिश्रण इथेनॉल और पेट्रोल का 10-20% मिश्रण है। भारत सरकार 2025 तक इथेनॉल प्रतिशत को 10.5% से बढ़ाकर 20% कर देगी। भारत प्रति वर्ष 26 मिलियन वाहनों का उत्पादन करता है। भारत प्रति वर्ष 5 मिलियन वाहनों का निर्यात करता है।इथेनॉल एक अच्छा विलायक है। इसका रासायनिक सूत्र C2H5OH है। यह एक कार्बनिक यौगिक है। दैनिक जीवन में इसके व्यापक अनुप्रयोग हैं। यह पेट्रोल और डीजल से काफी सस्ता है l

इथेनॉल सम्मिश्रण इथेनॉल और पेट्रोल का 10-20% मिश्रण है। भारत सरकार 2025 तक इथेनॉल प्रतिशत को 10.5% से बढ़ाकर 20% कर देगी। भारत प्रति वर्ष 26 मिलियन वाहनों का उत्पादन करता है। भारत प्रति वर्ष 5 मिलियन वाहनों का निर्यात करता है।

एथेनॉल के अन्य उपयोग

इथेनॉल एक अच्छा विलायक है। इसका रासायनिक सूत्र C2H5OH है। यह एक कार्बनिक यौगिक है। दैनिक जीवन में इसके व्यापक अनुप्रयोग हैं।

  • इसके कई अनुप्रयोग हैं। सभी सिरप में इथेनॉल होता है, विशेष रूप से कफ सिरप।
  • दवा उद्योग में इसका उपयोग।
  • इसका उपयोग सफाई एजेंटों जैसे सैनिटाइज़र और साबुन में किया जाता है।
  • शराब और बीयर जैसे पेय पदार्थों के उत्पादन में व्यापक आवेदन।
  • आजकल ईंधन के रूप में।

एथेनॉल का फ्लेक्सी फ्यूल के रूप में उपयोग

फ्लेक्सी फ्यूल पेट्रोल और डीजल के लिए वैकल्पिक ईंधन विकल्प है। पेट्रोल के इथेनॉल मिश्रण का 85% फ्लेक्सी ईंधन है। इंजन के काम करने का सिद्धांत सीएनजी वाहनों के समान है। पारंपरिक इंजन में लचीले ईंधन का उपयोग नहीं होता है। इंजन में सामान्य इंजन में सीएनजी और पेट्रोल के रूप में अलग डिब्बे होते हैं।
इथेनॉल का प्रतिशत आवश्यक सीमा के अनुसार भिन्न हो सकता है।

एथेनॉल ईंधन स्वच्छ ईंधन के रूप में क्यों उपयोग किया जाना चाहिए

  • देश में कच्चे माल की अच्छी उपलब्धता।
  • सब्जियों और अनाज के कचरे को कच्चे माल के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • इथेनॉल के मिश्रण के लिए सबसे अच्छा कच्चा माल गन्ना है।
  • देश में गन्ने की उपलब्धता इथेनॉल के उत्पादन के लिए एक बड़ा अवसर है।
  • फ्लेक्सी फ्यूल के क्षेत्र में गन्ना अनुकूल जलवायु भारत का समर्थन करता है।
  • फ्लेक्सी ईंधन के रूप में एथेनॉल सम्मिश्रण का उपयोग प्रदूषण मुक्त है। यह धुआं पैदा नहीं करता है।
  • अन्य ईंधनों की तुलना में 100% पर्यावरण के अनुकूल सस्ता।
  • देश में इसका उपयोग बढ़ने से पेट्रोलियम पर देश की निर्भरता कम होगी।
  • जब सभी वाहनों को इथेनॉल सम्मिश्रण ईंधन में स्थानांतरित कर दिया जाता है तो कच्चे तेल पर खर्च नाटकीय रूप से कम हो जाता है।
  • नतीजतन, पेट्रोलियम पर होने वाला राजस्व खर्च देश के विकास को वहन कर सकता है।

एथेनॉल ईंधन स्वच्छ ईंधन को अपनाने की चुनौतियाँ

भारत का ऑटोमोबाइल उद्योग मूल रूप से पेट्रोलियम ईंधन पर आधारित है। पेट्रोलियम ईंधन महंगा ईंधन ऊर्जा विकल्प है। भारत 80% पेट्रोलियम आयात पर निर्भर है। व्यापार और वाणिज्य में वैश्विक अशांति से पेट्रोल की कीमत प्रभावित होती है। इसलिए आयातित पेट्रोलियम उत्पादों के बजाय जैव ईंधन पर निर्भर रहना सबसे अच्छी पहल है।

प्रमुख चुनौतियाँ
  • भारतीय ऑटोमोबाइल उद्योग BS-5 और 6 इंजन का उपयोग कर रहा है। ये इंजन ऊर्जा उत्पादन के लिए पेट्रोल, सीएनजी और डीजल पर निर्भर हैं। इथेनॉल सम्मिश्रण इंजन पूरी तरह से अलग है।
  • सभी फ्लेक्सी ईंधन इंजन अलग-अलग आवश्यकताएँ हैं।
  • इथेनॉल सम्मिश्रण फ्लेक्सी ईंधन उद्योग भारत में नया है।
  • बायो एथेनॉल का उत्पादन भी एक बड़ी चुनौती है।
  • प्रौद्योगिकी नई है और अनुकूलन में समय लगेगा।

Download UPSC study material in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!